Type Here to Get Search Results !

Malang Title Song




Malang Title Song

Kaafira to chaldiya iss safar ke sang
Kaafira to chaldiya iss safar ke sang
Manzilein na dor koi leke apna rang

Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Main malang, haaye re

Main beraagi sa jiun, ye bhatkta man
Main beraagi sa jiun, ye bhatkta man
Ab kaha le jaayega ye awarapan

Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Main malang, haaye re

Hai nasibon mein safar to
Main kahi bhi, kyu ruku?
Hai nasibon mein safar to
Main kahi bhi, kyu ruku?
Chodke aaya kinare, beh saku jitna bahu
Din guzarte hi rahe, yunhi bemausam
Raaste tham jaye par ruk na paye hum

Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Main malang, haaye re

Roobaru khudse hua hoon
Mujhe mein mujhko tu mila
Roobaru khudse hua hoon
Mujhe mein mujhko tu mila
Badalo ke iss jahan mein, aasmaan tujhmein mila
Pighli hai ab raat bhi, hai seher bhi ye nam
Naa khuda main to raha, ban gya tu dharam

Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Rahoon main malang, malang, malang
Main malang, haaye re


क़ाफ़िरा तो चल दिया इस सफ़र के संग
क़ाफ़िरा तो चल दिया इस सफ़र के संग
मंज़िलें ना डोर कोई, लेके अपना रंग


रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
मैं मलंग, हाय रे


मैं बैरागी सा जियूँ ये भटकता मन
मैं बैरागी सा जियूँ ये भटकता मन
अब कहाँ ले जाएगा ये आवारापन?


रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
मैं मलंग, हाय रे


है नसीबों में सफ़र तो मैं कहीं भी क्यूँ रुकूँ? ओ
है नसीबों में सफ़र तो मैं कहीं भी क्यूँ रुकूँ?
छोड़ के आया किनारे, बह सकूँ जितना बहूँ
दिन गुज़रते ही रहे यूँ ही बेमौसम
रास्ते थम जाएँ, पर रुक ना पाएँ हम


रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
मैं मलंग, हाय रे


रूबरू खुद से हुआ हूँ, मुझमें मुझको तू मिला, हो
रूबरू खुद से हुआ हूँ, मुझमें मुझको तू मिला
बादलों के इस जहाँ में आसमाँ तुझमें मिला
पिघली है अब रात भी, है सहर भी ये नम
ना खुदा मैं तो रहा, बन गया तू धरम


रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
रहूँ मैं मलंग, मलंग, मलंग
मैं मलंग, हाय रे



Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area