Type Here to Get Search Results !

तुम ही आना Tum Hi Aana

तुम ही आना Tum Hi Aana


तेरे जाने का ग़म और ना आने का ग़म

फिर ज़माने का ग़म क्या करें?

राह देखे नज़र, रात भर जाग कर

पर तेरी तो ख़बर ना मिले


बहोत आई-गई यादें, मगर इस बार तुम ही आना

इरादे फिर से जाने के नहीं लाना, तुम ही आना


मेरी देहलीज़ से होकर बहारें जब गुज़रती है

यहाँ क्या धुप, क्या सावन, हवाएँ भी बरसती हैं

हमें पूछो क्या होता है, बिना दिल के जिए जाना

बहोत आई-गई यादें, मगर इस बार तुम ही आना


कोई तो राह वो होगी, जो मेरे घर को आती है

करो पीछा सदाओं का, सुनो, क्या कहना चाहती है?

तुम आओगे मुझे मिलने, ख़बर ये भी तुम ही लाना

बहोत आई-गई यादें, मगर इस बार तुम ही आना


तुम ही आना Tum Hi Aana


Tere jaane ka gham
Aur na aane ka gham
Phir zamaane ka gham
kya karein?

Raah dekhe nazar
Raat bhar jaag kar
Par teri toh khabar na mile

Bahut aayi gayi yaadein
Magar iss baar tum hi aana
Iraade phir se jaane ke nahi laana
Tum hi aana!

Meri dehleez se hokar
Bahare jab guzarti hain
Yahan kya dhoop, kya saawan
Hawayein bhi barasti hain

Hume poochho kya hota hai
Bina dil ke jeeye jaana
Bahut aayi gayi yaadein
Magar iss baar tum hi aana

Koi to raah woh hogi
Jo mere ghar ko aati hai
Karo peechha sadaaon ka
Suno kya kehna chahati hai

Tum aaoge mujhe milne
Khabar yeh bhi tum hi laana
Bahut aayi gayi yaadein
Magar iss baar tum hi aana

Marjaavaan… Marjaa…

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area