Type Here to Get Search Results !

हुए बेचैन पहली बार लिरिक्स | Hue Bechain Pahli Bar Lyrics

हुए बेचैन पहली बार लिरिक्स  | Hue Bechain Pahli Bar Lyrics 

SONG CREDITS

Song Title            : Hue Bechain Lyrics
Movie                   : Ek Haseena Thi Ek Deewana Tha
Singers                 : Palak Muchhal, Yaseer Desai
Lyrics / Music     : Nadeem Saaifi
Music Label        : Shree Krishna International

 हुए बेचैन पहली बार लिरिक्स  | Hue Bechain Pahli Bar Lyrics 

हुए बेचैन पहली बार लिरिक्स


हुए बेचैन पहली बार, हमने राज़ ये जाना…
मोहब्बत में कोई आशिक़, क्यों बन जाता है दीवाना…
अगर इक़रार हो जाये, किसी से प्यार हो जाये
बड़ा मुश्किल होता है दिल को समझाना…

हुए बेचैन पहली बार, हमने राज़ ये जाना…
मोहब्बत में कोई आशिक़, क्यों बन जाता है दीवाना…

तसब्बुर के हसीं लम्हे तेरा एहसास करते हैं
तेरा जब ज़िक्र आता है तो मिलने को तड़पते हैं
हमारा हाल न पूछो की दुनिया भूल बैठे हैं
चले आओ तुम्हारे बिन न मरते हैं न जीते हैं…

सुनो अच्छा नहीं होता किसी को ऐसे तड़पाना
मोहब्बत में कोई आशिक़ क्यूँ बन जाता है दीवाना..

अगर ये प्यार हो जाये किसी पे दिल जो आ जाये
अगर ये प्यार हो जाये किसी पे दिल जो आ जाये
बड़ा मुश्किल होता है दिल को समझाना..

हुए बेचैन पहली बार, हमने राज़ ये जाना
तू ही है तू है तू ही है…

फलक से पूछ लो चाहे, गवाह ये छन्द तारें हैं
न समझो अजनबी सदियों से, हम तो बस तुम्हारे हैं

मोहब्बत से नहीं वाकिफ, बहुत अन्जान लगती हो
हमे मिलना जरूरी है, हकीकत न समझती हो..

कोई कैसे समझ पाये, किसी के दिल का अफसाना
मोहब्बत में कोई आशिक़, क्यों बन जाता है दीवाना

अगर इक़रार हो जाये, किसी से प्यार हो जाये
बड़ा मुश्किल होता है दिल को समझाना…

हुए बेचैन पहली बार, हमने राज़ ये जाना…
मोहब्बत में कोई आशिक़, क्यों बन जाता है दीवाना…

हुए बेचैन पहली बार लिरिक्स  | Hue Bechain Pahli Bar Lyrics

Hmm...
Hue bechain pehli baar
Humne raaz ye jana
Mohaabbat mein koi aashiq
Kyun ban jata hai deewana

Agar iqrar ho jaye
Kisi se pyar ho jaye
Bada mushkil hota hai 
Dil ko samjhana

Hue bechain pehli baar
Humne raaz ye jana
Mohaabbat mein koi aashiq
Kyun ban jata hai deewana

Tasavur ke haseen lamhe
Tere ehsaas karte hain
Tera jab zikr aata hain
Toh milne ko tadpte hain

Hamara haal na pucho
Ki duniya bhool baithe hain
Chale aao tumhare bin
Na marte hain na jeete hain

Suno accha nahi hota
Kisi ko aisa tadpana
Mohabbat mein koyi aashiq
Kyun ban jata hai deewana

Agar ye pyaar ho jaye
Kisi pe dil jo aa jaye
Bada mushkil hota hain
Dil ko samjhana

Hue bechain pehli baar
Humne raaz ye jana..

Tu hi hain tu hain
Tu hi hain oo..

Falak se pooch lo chaahe
Gawah ye chand taarein hain
Na samjho ajnabee sadiyon se
Hum toh bus tumhare hain

Mohabbat se nahi waaqif
Bohot anjaan lagti ho 
Humein milna zaroori hain
Haqeeqat na samajhti ho
Hmm...

Koyi kaise samajh paye
Kisi ke dil ka afsana
Mohabbat mein koyi aashiq
Kyun ban jata hai deewana

Agar iqrar ho jaye
Kisi se pyar ho jaye
Bada mushkil hota hai
Dil ko samjhana

Huye bechain pehli baar
Humne raaz ye jana
Mohabbat mein koyi aashiq
Kyun ban jata hai deewana

Hmm..


Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area