Type Here to Get Search Results !

Short Motivational Story in Hindi for Success#2

Short Motivational Story in Hindi for Success

जिंदगी बहुत बड़ी और कठिन है यहाँ एक प्रॉब्लम खत्म नहीं होती तो दूसरी आ जाती है, तो कभी कभी हम प्रॉब्लम से लड़ते लड़ते थक जाते है और फिर आगे जाने का मन नहीं करता इसलिए हम लेके आये है अलग अलग राइटर की फेमस बुक में से कुछ Short Motivational Story in Hindi for Success | आज की कहानी शिव खेरा की फेमस बुक "जीत आपकी मुठ्ठी में" से है| तो इन कहानी का क्रेडिट लेखक का होगा| तो चलिए कहानी पढ़ते है, आज की पहली कहनी है  

अंदरूनी ताकत   

Short Motivational Story in Hindi for Success

एक आदमी मेले में गुब्बारे बेच कर गुजर-बसर करता था। उसके पास तात, नीले, पीले, हरे और इसके अलावा कई रंगों के गुब्बारे थे। जब उसकी बिकी कम होने लगती तो वह हीलियम गैस से भरा एक गुब्बारा हवा में उड़ा देता। बच्चे जब उस उड़ते गुब्बारे को देखते, तो वैसा ही गुब्बारा पाने के लिए आतुर हो उठते। वे उसके पास गुब्बारे खरीदने के लिए पहुँच जाते, और उस आदमी की बिक्री फिर बढ़ने लगती। उस आदमी की बिक्री जब भी घटती, वह उसे बढ़ाने के लिए गुब्बारे उड़ाने का यही तरीका अपनाता। 

एक दिन गुब्बारे वाले को महसूस हुआ कि कोई उसके जैकेट को खींच रहा है। उसने पलट कर देखा तो वहाँ एक बच्चा खड़ा था। बच्चे ने उससे पूछा, "अगर आप हवा में किसी काले गुब्बारे को छोड़े, तो क्या वह भी उड़ेगा?" बच्चे के इस सवाल ने गुब्बारे वाले के मन को छू लिया। बच्चे की ओर मुह कर उसने जवाब दिया, "बेटे, गुब्बारा अपने रंग की वजह से नहीं, बल्कि उसके अंदर भरी चीज की वजह से उड़ता है।"

हमारी जिंदगी में भी यही उसूल लागू होता है। अहम चीज हमारी अंदरूनी शरियत है। हमारी अंदरूनी शख्सियत की वजह से हमारा जो नज़रिया बनता है, नही हमें ऊपर उठाता है। हार्वर्ड विश्वविद्यालय (Harvard University) के विलियम जेम्स (William James) का कहना है, हमारी पीढ़ी की सबसे बड़ी खोज यह है कि इंसान अपना नजरिया बदल कर अपनी जिंदगी को बेहतर बना सकता है। 

हमारा नज़रिया हमें कामयाबी दिलाता है OUR ATTITUDE CONTRIBUTES TO SUCCESS हार्वर्ड विश्वविद्यालय द्वारा कराए गए एक अध्ययन के मुताबिक, 85 प्रतिशत मौकों पर किसी इंसान को नौकरी या तरक्क़ी उसके नजरिए की वजह से मिलती है, जबकि अक्लमंदी या ख़ास तथ्यों (facts) और आंकड़ों (figures) की जानकारी की वजह से केवल 15 प्रतिशत मौकों पर ही मिलती हैं। ताज्जुब की बात है कि जिंदगी में कामयाबी दिलाने में तथ्यों और आंकड़ों की केवल 15 प्रतिशत हिस्सेदारी होती है|

हीरों से भरा खेत ACRES OF DIAMONDS

हफ़ीज अफ्रीका का एक किसान था। वह अपनी जिंदगी से खुश और संतुष्ट था। हफीज खुश इसलिए था कि वह संतुष्ट था। वह संतुष्ट इसलिए था क्योंकि वह खुश था। एक दिन एक अक्लमंद आदमी उसके पास आया। उसने हफीज को हीरों के महत्त्व और उनसे जुड़ी ताकत के बारे में बताया। उसने हफीज से कहा, "अगर तुम्हारे पास अंगूठे जितना भी बड़ा हीरा हो, तो तुम पूरा शहर खरीद सकते हो, और अगर तुम्हारे पास मुट्ठी जितना बड़ा हीरा हो तो तुम अपने लिए शायद पूरा देश ही खरीद लो।" 

वह अक्लमंद आदमी इतना कह कर चला गया। उस रात हफ़ीज सो नहीं सका। वह असंतुष्ट हो चुका था, इसलिए उसकी खुशी भी खत्म हो चुकी थी। दूसरे दिन सुबह होते ही हफ़ीज ने अपने खेतों को बेचने और अपने परिवार की देखभाल का इंतजाम किया, और हीरे खोजने के लिए। रवाना हो गया। वह हीरों की खोज में पूरे अफ़्रीका में भटकता रहा, पर उन्हें पा नहीं सका। उसने उन्हें यूरोप में भी ढूँढा, पर वे उसे वहाँ भी नहीं मिले। स्पेन पहुँचते-पहुँचते वह मानसिक, शारीरिक और आर्थिक स्तर पर पूरी तरह टूट चुका था। वह इतना मायूस हो चुका था कि उसने बार्सिलोना (Barcelona) नदी में कूद कर खुदकुशी कर ली।

इधर जिस आदमी ने हफ़ीज के खेत खरीदे थे, वह एक दिन उन खेतों से होकर बहने वाले नाले में अपने ऊंटों को पानी पिला रहा था। तभी सुबह के वक्त उग रहे सूरज की किरणें नाले के दूसरी ओर पड़े एक पत्थर पर पड़ी, और वह इंद्रधनुष की तरह जगमगा उठा। यह सोच कर कि वह पत्थर उसकी बैठक में अच्छा दिखेगा, उसने उसे उठा कर अपनी बैठक में सजा दिया। उसी दिन दोपहर में हफीज को हीरों के बारे में बताने वाला आदमी खेतों के इस नए मालिक के पास आया। उसने उस जगमगाते हुए पत्थर को देख कर पूछा, “क्या हफीज लौट आया?" नए मालिक ने जवाब दिया, “नहीं, लेकिन आपने यह सवाल क्यों पूछा?" अक्लमंद आदमी ने जवाब दिया, “क्योंकि यह हीरा है। मैं उन्हें देखते ही पहचान जाता हूँ।” नए मालिक ने कहा, "नहीं, यह तो महज एक पत्थर है। मैंने इसे नाले के पास से उठाया है। आइए, मैं आपको दिखाता हूँ। वहाँ पर ऐसे बहुत सारे पत्थर पड़े हुए हैं। उन्होंने वहाँ से नमूने के तौर पर बहुत सारे पत्थर उठाए, और उन्हें जाँचने-परखने के लिए भेज दिया। वे पत्थर हीरे ही साबित हुए। उन्होंने पाया कि उस खेत में दूर-दूर तक हीरे दबे हुए थे।

Hiro ka khet

इस कहानी से हमें तीन बातें सीखने को मिलती है-

  1. जब हमारा नजरिया सही होता है, तो हमें महसूस होता है की हम हीरो से भरी हुई जमीन पर चल रहे है| मौके हमेशा हमारे पावों टेल दबे हुए होते है उनकी तलाश में कही और जाने जी जरुरत नहीं होती है| 
  2. दुसरो के खेत की घास हमेश हरी ही लगती है| 
  3. कोई मौका दोबारा नहीं खटखटाता| दूसरा मौका पहले मौके से बेहतर या बदतर हो सकता है| पर ठीक पहले वाले मौके जैसा नहीं हो सकता| 

Post a Comment

0 Comments
* Please Don't Spam Here. All the Comments are Reviewed by Admin.

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads Area